बैंक में कोण कोण सी जॉब होती है | What Kind Of Job Is There In The Bank Hindi

बैंक में कोण कोण सी जॉब होती है | What Kind Of Job Is There In The Bank Hindi: किसी देश के करोड़ों लोगों को रोजगार दे कर उनके जीवन की दशा और दिशा दो नों को सब आता है, आज के इस समय में जहां पुराने बैंक अपनी-अपनी बैंक शाखा ओं का विस्तार कर रहे हैं, वही दिन-ब-दिन नए बैंक और खुल रहे हैं। 

इस लिए भविष्य में बैंकिंग सेक्टर में जॉब के ढेरों अवसर है, किसी बैंक में जॉब करने पर आपको एक अच्छा लाइफ स्टाइल अपने काम में फ्लैक्सिडिटीअच्छी सैलरी के साथ जो सिटीज होती हैं, वह तो मिलती ही है साथ ही साथ सोसाइटी में एक रेस्पेक्ट फुल लाइफ मिलती है और प्रमोशन के साथ एक ग्रोथ का अवसर भी मिलता है जो कि अगर आप किसी और जॉबमें रहकर प्रमोशन पाते हो तो वह एक मेहंदी प्रोसेस होता है।

वही बैंकिंग में आप आसानी से एक टॉप लेवल के मैनेजर बन सकते हो, इस लिए बैंकिंग में कैरियर किसी भी स्टूडेंट के लिए चाहे फिर वह किसी भी फील्ड से क्यों ना? लड़की हो या लड़का एक्सीडेंट डिसीजन होता है। 

बैंक में कोण कोण सी जॉब होती है | What Kind Of Job Is There In The Bank Hindi

बैंकिंग जॉब
बैंकिंग जॉब

आज के Article में हम बात करेंगे कि बैंक में आप कौन-कौन सी जॉब कर सकते हो।

  • उसका पूरा प्रोसेस क्या होता है।
  • आपको उस जो में क्या काम करना पड़ता है ।
  • आपकी एजुकेशनल क्वालिफिकेशन क्या होनी चाहिए।
  • Age कितनी होनी चाहिए।
  • किस जॉब में रहकर आप को कितनी सैलरी मिलती है।

यह सब जानने के लिए इस Article को स्टार्ट करते हैं। 

आपको यह तो पता है कि बैंकिंग एक ऐसा इंस्टिट्यूशन है जो लोगों की सेविंग को अपने पास जमा करता है और जरूरत पड़ने पर लोगों को ऋण देता है, उनको लोन प्रोवाइड कर आता है, ऐसे में बैंक को अच्छे से चलाने केलिए बहुत सारे लोगों की जरूरत पड़ती है जो कि अलग-अलग पोस्ट पर है।

अलग-अलग तरीके का काम करते हैं तो बैंक में जितनी भी जॉब होती है, वह दो तरह की होती है, एकतो क्लर्क लेवल की जॉब दूसरी होती है मैनेजरियल जॉब क्लर्क लेवलकी जॉब होती है।

क्लर्क की जॉब

सबसे छोटी जॉब होती है क्लर्क लेवल की जॉब इसका मतलब है कि जब आप किसी भी बैंक में काम कराने जाते हो, चाहे वह अपना बैंक अकाउंट खोलना हूं या फिर कैश जमा कराना हो या फिर डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन हो आप जिस पर्सन से कांटेक्ट करते हो, वह क्लर्क ही कहला ता है।

क्लर्क की जॉब स्कोर हम सिंगल विंडो ऑपरेटर भी बोलते हैं क्यों कि एक पर्सन को एक विंडो दे दी जाती है और उस विंडोसे रिलेटेड सारे काम उसको करने पड़ते हैं, अगर आप किसी भी बैंक में क्लर्क की जॉब करना चाहते हो तो उसके लिए मिनिमम एजुकेशन क्वालिफिकेशन है, ग्रेजुएशन या नियर किसी भी फील्ड से ग्रेजुएट होने चाहिए, किसी भी रिकॉग्नाइज्ड यूनिवर्सिटी से इसके अलावा जो एक लिमिट है वह है 20 से 28 साल यानी मिनिमम एज आपकी 20 वर्ष होनी चाहिए। 

क्लर्क की जॉब के लिए जो एग्जाम है, उसका नाम है आईबीपीएस क्लर्क आईबीपीएस एक ऐसी ट्यूशन है जो सभी सरकारी बैंक के लिए एक एग्जाम कंडक्ट कराता है, अगर आप सरकारी बैंक में क्लर्क बनना चाहते हो तो आपको आईबीपीएस का एग्जाम देना पड़ेगा। 

इसके अलावा अगर आप प्राइवेट बैंक का क्लर्क बनना चाहते हो तो प्राइवेट बैंक अपने लिए अलग से क्लास का एग्जाम कंडक्ट कराते हैं तो आपको उसके लिए फॉर्म भरना पड़ेगा अलग से और फिर वह एग्जाम पास करके किसी भी प्राइवेट बैंक के क्लर्क बन सकते हो। 

जवाब किसी बैंक के क्लर्क बन जाते हो तो आपकी जो स्टार्टिंग सैलेरी होती है,वह ऑलमोस्ट ₹20000 मंथली होती है जो कि एक प्रेशर के लिए अच्छी सैलरी मानी जाती है।

 इसके अलावा अगर आप किसी बैंक में क्लर्क ना बन कर एक मैनेजर की पोस्ट पर जाना चाहते होतो उसके लिए भी मैनेजर की अलग-अलग पोस्ट है। 

प्रोबेशनरी ऑफिसर की जॉब

सबसे पहली पोस्टका नाम है प्रोबेशनरी ऑफिसर इस्कॉन शॉर्ट फॉर्म में PO भी बोलते हैं, अभी मैं डिटेल में बताऊं कि आप कैसे किसी बैंक का पीओ बन सकते हो।

असिस्टेंट मैनेजर  की जॉब

इसके बाद जो दूसरी जॉब होती है वह होती असिस्टेंट मैनेजर की जो असिस्टेंट मैनेजर होता है, वह यह देखता है कि उस बैंक का काम अच्छे से चल रहा हूं। 

ब्रांच मैनेजर की जॉब

इसके बाद जो पोस्ट आती है वह होती है ब्रांच मैनेजर की यानी एक पर्टिकुलर बैंक की जो भी ब्रांच होती है उस ब्रांच का पूरा का पूरा काम ब्रांच मैनेजर संभाल ता है और यह एक अच्छी पोस्ट होती है इसमें सैलरी भी काफी अच्छी मिलती है। 

चीफ मैनेजर की जॉब

उसके बादजो पोस्ट होती है वह होती है चीफ मैनेजर या किसी भी बैंक का टॉप और मिडल लेवल के बीच में मैनेजर होता है और इस लेवल के मैनेजर बनने के लिए आप यातो एक्सपीरियंस के बेसिस पर प्रमोशन पाकर बन सकते हो या फिरआप बिजनेस बैंकिंग या फिर फाइनेंस सेक्टर में एमबीए करके आप इसकी पोस्ट पर जा सकते हैं। 

असिस्टेंट जनरल मैनेजर की जॉब

उसके बाद जो पोस्ट होती है वही असिस्टेंट जनरल मैनेजर यह जनरल मैनेजर के नीचे की पोस्ट होती है और इनका काम होता है बिजनेस को डेवलपमेंट कैसे किया, जाए क्लाइंट को कैसे रिटेन किया जाए।

डेप्युटी जनरल मैनेजर  की जॉब

 इसके बाद पोस्ट आती है डेप्युटी जनरल मैनेजर ऑफ़ चीफ जनरल मैनेजर कि इनका काम असिस्टेंट जनरल मैनेजर से थोड़ा सा ऊपर का होता है तो यह देखते हैं कि जो पूरे बैंक का काम है, वह अच्छे से चलता रहे टॉप लेवल मैनेजर यानी सीईओ या फिर मैनेजिंग डायरेक्टर ने जो भी प्लांस बनाए बैंक के लिए उनको किस तरीके से पूरा कराया जाए और किस तरीके से बैंक को अच्छे से चलाया जाए। 

इसके बाद जो पोस्ट होती है वह तीन जनरल मैनेजर की और जनरल मैनेजर सीईओ के बाद का मैनेजर माना जाता है जो कि अपने आप में बहुतही बड़ी पोस्ट होती है, इनकी सैलरी कम से कम ढाई लाखसे ₹300000 महीने तक होती है और अगर किसी अच्छे प्राइवेट बैंक की सैलरी की बात की जाए तो यह सैलरी हर साल करोड़ों में भी पहुंच जाती है।

चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफीसर की जॉब

उसके अलावा जो नंबर वन पोस्ट होती है या नहीं, सबसे टॉप पर पोस्ट होती है किसी भी बैंक में वह होती है CEO यानी चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफीसर इसका काम पूरे बैंक के लिए प्लान बनाना डिसीजन लेना होता है और यह देखना होता है कि पूरा बैंक अच्छे से काम कर रहा है या नहीं कर रहा है।

उसकी प्रॉफिटेबिलिटी कैसी है, उसको कैसे आगे बढ़ाया जाए, एक्स्ट्रा यानी बैंक के जितने भी डिसीजन है वह सीईओ लेताहै और उन डिसीजंस को किस तरह से लागू किया जाए, वह जनरल मैनेजर करता है और जनरल मैनेजर की हेल्प के लिए असिस्टेंट जनरल मैनेजर डेप्युटी जनरल मैनेजर ऑफ चीफ जनरल मैनेजर होते हैं कि चीफ मैनेजर का काम होता है। 

ब्रांच लेवल के जो मैनेजर सोते हैं उनको काम बताना उनके लिए प्लानिंग करना ब्रांच मैनेजर का काम होता है,एक पल टिलर ब्रांच को अच्छे से चलाना और उसमें उसकी हेल्प करते हैं। 

असिस्टेंट मैनेजर बनने के लिए जो फर्स्ट स्टेप होता है, वह होता है प्रोबेशनरी ऑफिसर का तो हम देख लेते हैं कि प्रोबेशनरी ऑफिसर क्या होता है तो देख एपीओ एंट्री लेवल होता है, किसी भी मैनेजर पोस्ट पर जानेके लिए यानी अब किसी भी बैंक का मैनेजर बनना चाहते होतो आपको उस बैंक का पीओ का एग्जाम देना होगा। 

जब आप PO का एग्जाम देते हो और आपकी जॉब लग जाती है तो आपको 2 साल के प्रोबेशन के पीरियड पर रखा जाता है। उस पीरियड पर जो आपका डेजिग्नेशन होता है, वह होता है मैनेज मेंट ट्रेनी 2 साल बाद आपको असिस्टेंट मैनेजर बना दिया जाता है जो 2 साल का आपका ट्रेनिंग पीरियड होता है, उसमें आपको अलग-अलग तरह के काम को करने की ट्रेनिंग दी जाती है जिसमें आपको किसी भी तरह का काम करवा या जा सकता है। 

चाहे फिर वह फाइनेंस रिलेटेड हो बजट रिपेयर करना हो, डाक्यूमेंट्स ऑपरेशन कर रहा हूं, किसी लोन डिपार्टमेंट में हूं या नहीं हर तरीके से आपको कै पेबल बनाया जाता है कि आप उस बैंक के काम को अच्छे से कर सकें।

READ: आईपीएस ऑफिसर कैसे बनें | How to Become A IPS Officer Hindi

बैंक का पियो बनने के लिए आपकी जो मिनिमम एजुकेशन क्वालिफिकेशन होनी चाहिए, वह होती है ग्रेजुएशन इसमें भी आप किसी भी फील्ड सेग्रेजुएट होने चाहिए।

किसी भी रिकॉग्नाइज्ड यूनिवर्सिटी से पीओ के लिमिट होती है, वह टी 20 से 30 इसके लिए जो एग्जाम है, उसका नामहै ibps.po या फिर स्टेट बैंक ऑफ इंडिया का पीओ बनना चाहते हो तो उसके लिए आपको एसबीआई पीओ का एग्जाम देना पड़ेगा।

अगर SBI का पी ओ बनना चाहते हो तो उसके लिए आपको आईबीपीएस आर आरबी का एग्जाम देना पड़ेगा, इसके अलावा अगर आप किसी और प्राइवेट बैंक का पीओ बनना चाहते हो तो आपको उस पार्टिकुलर बैंक पीओ का एग्जाम देना पड़ेगा। 

अगर आप एक बैंक के पियो बन जाते हो तो स्टार्टिंग में जो आपकी सैलरी होती है, वह ऑलमोस्ट फोर्टी थाउजेंड होती है यानी एप्रोक्सीमेटली 600000 रुपए हर साल आपको मिलेंगे जो कि अपने आप में एक फैशन के लिए बहुत ही अच्छी सैलरी होती है। 

अब यह बात आती है कि अगर आप एक पीओ केलेवल पर जॉब करते हो तो कितने साल बाद आप? हाईएस्ट रैंक पर जा सकते हो तो देखिए बैंक में जो भी प्रमोशन होता है वह हर 2 साल बाद होता है,यानी अगरआपने अपना करियर किसी भी बैंक में 1 प्रोबेशनरी ऑफिसर बन कर उसके 2 साल बाद आप असिस्टेंट मैनेजर बन जा ओगे फिर ब्रांच मैनेजर बन जाओगे और ऑलमोस्ट 14 साल बाद आप उस बैंक के जनरल मैनेजर बन जा  ओगे और जब आप उस बैंक केजनरल मैनेजर बन जाते हो तो आपकी सैलरी 25 लाख से 30 लाख एनुअली भी हो सकती है और वही अगर आप उस बैंक का सीईओ बनना चाहते हो तो उसके लिए आपको कम से कम15 से 20 सालों का एक्सपीरियंस चाहिए क्योंकि सीईओ पन्ना बहुत हीमुश्किल होता है। 

यह एक आसान काम नहीं होता है और किसी बैंक को संभालने की पूरी रेस्पॉन्सिविटी एक सीईओ के ऊपर होती है इसी लिए इसमें एमबीए की डिग्री के साथ-साथ 10 से 15 सालों का एक्सपीरियंस कंपलसरी है 

मेरी अंतिम राय इस Post पे

दोस्तों मेने आप को बैंक में जोभी जॉब पोस्ट होती है उसके सबके बारेमे साडी जानकारी विस्तार से समजा दि है तो आप अपने हिसाब से बैंक में जॉब के लिए तयारी कर सकते हो। 

तो दोस्तों अगर हमारे साथ आप इसी तरह से एजुकेशनल या फिर जॉब से रिलेटेड इंफॉर्मेशन को लेना चाहते हैं तो इस के लिए जरूरी है कि आप हमारे इस Naukrikhabri.com की वेबसाइट से जुड़े रहैं। अगर Post अच्छा लगे तो अपने दोस्तों को भी शेयर करें तो दोस्तों इस Post में बस इत ना ही और मिलते हैं अगले Post में जय हिंद वंदे मातरम।

Share on:

Hi, I am Royaldo Sanju a part-time Blogger, Developer, Affiliate Marketer and founder of Naukrikhabri.com. Here, I post about Jobs to help people make money online.

Leave a Comment